×
Home / Vivek Dubey
Vivek Dubey Shayari

Vivek Dubey

1965 Delhi

best shayari for love

लिए हक़ीक़त का अहसास सी । 

ओ माँ तू बड़ी ख़ास ख़ास सी ।

मिलता है सुकूँ तेरे आँचल में , तेरी हँसी में सारी कायनात सी ।

Time : 2021-03-23 08:57:12

heart touching shayari

लिए हक़ीक़त का अहसास सी । 

ओ माँ तू बड़ी ख़ास ख़ास सी ।

मिलता है सुकूँ तेरे आँचल में , तेरी हँसी में सारी कायनात सी ।

Time : 2021-03-23 08:57:12

heart touching shayari

चलता रहा कल तक, आज की खातिर । 

बजता रहा साज भी ,आवाज की खातिर । 

उतरती रहीं कुछ नज़्में, ख़्वाब जमीं पर , देतीं रहीं हसरतें हवा , नाज की ख़ातिर ।

Time : 2021-03-23 08:56:45

heart touching shayari

हम ख़्वाब देखते रह गए ।

अहसास सहजते रह गए ।

आए वो हिज़ाब में नज़र  ,

हम आफ़ताब देखते रह गए ।

Time : 2021-03-23 08:56:17

heart touching shayari

लिखता है वो बस लिखता है ।

अनुभव जीवन के लिखता है ।

नही कभी किताबों में छपता है ।

ना ही मंचों पर वो बिकता है ।

Time : 2021-03-23 08:55:37

heart touching shayari

तुम पूजो जिस पत्थर को पर विश्वास भरो ।

हो जाएगा जड़ भी चेतन छूकर आभास करो । 

मुड़ जातीं है धाराएँ भी सरिता की ,

इठलातीं धाराओं को बाहुपाश भरो ।

Time : 2021-03-23 08:55:09

heart touching shayari

मंजिलें न तलाश तू , चला चल रास्ते पे तू । 

रास्ता वहीं तमाम होगा , जहाँ मंज़िल का मुक़ाम होगा ।

चिंता नही चिंतन कर तू , मातम नही मंथन कर तू ।

 न उलझ दुनियाँ के फैर में , अपना ही सृजन कर तू ।

Time : 2021-03-23 08:54:40

heart touching shayari

मैं राधिका मन प्यासी बन कृष्ण सखा सी दासी

 

रच जाऊँ बस जाऊँ नैनन में भेद रहे न इस मन में उस मन में

Time : 2021-03-23 15:05:12

heart touching shayari

दिलों में खिंचने को है एक दीवार देखो । 

तल्ख़ निगाहों से होता है व्यापार देखो । 

रह न पाए कोई फ़र्क ज़र्रे ज़र्रे का कहीं । 

इश्क़ हुआ है हुस्न का सितमगार देखो ।


विवेक दुबे"निश्चल"@

Time : 2021-03-15 18:57:55

two line hindi shayari

लिए हक़ीक़त का अहसास सी । 

ओ माँ तू बड़ी ख़ास ख़ास सी ।

मिलता है सुकूँ तेरे आँचल में , तेरी हँसी में सारी कायनात सी ।

Time : 2021-03-23 08:57:12

two line hindi shayari

चलता रहा कल तक, आज की खातिर । 

बजता रहा साज भी ,आवाज की खातिर । 

उतरती रहीं कुछ नज़्में, ख़्वाब जमीं पर , देतीं रहीं हसरतें हवा , नाज की ख़ातिर ।

Time : 2021-03-23 08:56:45

two line hindi shayari

हम ख़्वाब देखते रह गए ।

अहसास सहजते रह गए ।

आए वो हिज़ाब में नज़र  ,

हम आफ़ताब देखते रह गए ।

Time : 2021-03-23 08:56:17

two line hindi shayari

लिखता है वो बस लिखता है ।

अनुभव जीवन के लिखता है ।

नही कभी किताबों में छपता है ।

ना ही मंचों पर वो बिकता है ।

Time : 2021-03-23 08:55:37

two line hindi shayari

तुम पूजो जिस पत्थर को पर विश्वास भरो ।

हो जाएगा जड़ भी चेतन छूकर आभास करो । 

मुड़ जातीं है धाराएँ भी सरिता की ,

इठलातीं धाराओं को बाहुपाश भरो ।

Time : 2021-03-23 08:55:09

two line hindi shayari

मंजिलें न तलाश तू , चला चल रास्ते पे तू । 

रास्ता वहीं तमाम होगा , जहाँ मंज़िल का मुक़ाम होगा ।

चिंता नही चिंतन कर तू , मातम नही मंथन कर तू ।

 न उलझ दुनियाँ के फैर में , अपना ही सृजन कर तू ।

Time : 2021-03-23 08:54:40

two line hindi shayari

मैं राधिका मन प्यासी बन कृष्ण सखा सी दासी

 

रच जाऊँ बस जाऊँ नैनन में भेद रहे न इस मन में उस मन में

Time : 2021-03-23 15:05:12

two line hindi shayari

दिलों में खिंचने को है एक दीवार देखो । 

तल्ख़ निगाहों से होता है व्यापार देखो । 

रह न पाए कोई फ़र्क ज़र्रे ज़र्रे का कहीं । 

इश्क़ हुआ है हुस्न का सितमगार देखो ।


विवेक दुबे"निश्चल"@

Time : 2021-03-15 18:57:55

Profile