×
Home / Neetu Gupta
Neetu Gupta Shayari

Neetu Gupta

1993 Delhi

"मेरे अल्फ़ाज"। शायर नहीं मैं, नहीं कोई कवियत्री, बस दिल की आवाज को मेरे अल्फ़ाज बयां करते।"

best shayari for love

हवा का प्यारा सा झोंका जब छू जाए तेरे गालों को

समझ जाना तब आधार मिल‌ गया है मेरे अधरों‌ को.....


Time : 2021-04-14 13:18:59

heart touching shayari

हवा का प्यारा सा झोंका जब छू जाए तेरे गालों को

समझ जाना तब आधार मिल‌ गया है मेरे अधरों‌ को.....


Time : 2021-04-14 13:18:59

heart touching shayari

     कलमकार हूं


कलमकार हूं 

कलम चलाता हूं

कभी अपना तो कभी

दूसरों का हाल बताता हूं।


जरूरी नहीं हर बार 

हो मेरा ही समाचार

कभी-कभी जीवन 

की राह खंगाल आता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


स्वपनों को छाप दूं 

क्या जरूरी है

कभी सच्चाई को‌ 

जो छुपी है

उजालें में उभार आता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


रोटी को तरसते 

भूखे नंगे बच्चे जो बिलखते

और आप भोजन में थाली में छोड़ते 

ऐसे मसले को‌ भी समाज को‌ 

दिखलाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


बेटी मार दी जाती  

कभी बेटे की चाह में

मां बाप बूढ़े हो जाते 

बेटों से मिलने की आह में

उनके भाव को‌ शब्दों में

बिखराता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


जल बिन धरती सूखी

आकाश का सूनापन

भेंट चढ रही प्रकृति स्वार्थ की

न बचाया तो पछताएंगे

ये आवाज जन -जन तक

पहुंचाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


वक्त की मार पड़े 

दर्द आ द्वार खड़े 

पहले ही कभी

सबको सीख दे 

आगाह भविष्य से करवाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं

Time : 2021-04-15 16:17:06

heart touching shayari

    क्योंकि वो मर्द है...

   ----------------------------

नहीं पंसद उसे कि कोई उसके अहम से टकराये

उसको नहीं भाता कोई उसके सामने टिक पाए।

क्योंकि उसको बोलती औरत चरित्रहीन लगती है

उसका वर्चस्व नष्ट होता है जब वो खामोशी तोड़ती है।

यदि औरत घरों से बाहर निकल जाए

लगता है उसे प्रतिष्ठा पर आंच न आ जाए।

उसके ठहाके लगाके हंसने से मर्यादा भंग होती है

मगर मूंछे तन जाती है जब औरत घूंघट में संग होती है।

यहां तक कि औरत के नाम में भी  उसका नाम जोड़ा जाना चाहिए

उसकी ही पहचान, औरत की  पहचान होनी चाहिए।

वो खुद को ही औरत का खुदा समझ बैठता है

अपनी मर्जी के बिना एक कदम नहीं चलने देता है।

क्योंकि वो मर्द है ।।

Time : 2021-04-14 13:14:36

heart touching shayari

** दिल का मेहमां...**

कभी भुला न सको हमें, ,,

दिल में तेरे, ऐसा मकाम बना लेंगे ।

मेरी आंखों का नूर तुम हो,,,

चेहरे को तेरे, हम अपना ख्वाब. बना लेंगे ।

महसूस करोगे तुम,हर दम पास अपने,,,

तुम्हें सांसों का हकदार बना लेंगे ।

धड़कनों में नाम तेरा गूंजें,

तुझे दिल का मेहमां बना लेंगे ।

कभी भुला न सको हमें, ,,

दिल में तेरे, ऐसा मकान बना लेंगे ।

लबों पर तेरे, मेरे नगमे खिलेंगे,,,

तुझे हम मुहब्बत -ए-बहार बना लेंगे ।

इजाजत दे तू अगर,, तुझको

हम अपना हमसफर बना लेंगे ।

मेरी नजरों से दौर-ए-मुहब्बत देखो,,,,

खुद को लुटा के भी ,तुम्हें अपना बना लेंगे ।

कभी भुला न सको हमें, ,

दिल में तेरे,ऐसा मकाम बना लेंगे ।⁠⁠


Time : 2021-04-14 13:12:12

heart touching shayari

** सागर की लहरों में .... **


हूं मैं नदियां की बहती धारा

मिलना चाहूं सागर की लहरों में ।

तन्हा ही पहाड़ों से मैदानों तक बहती रही निरन्तर

खोना चाहूं अब सागर की लहरों में ।

बहते-बहते थकी हूं बहुत

आराम चांहू मैं सागर की लहरों में ।

बहुत दूर से चली बहुत दूर तक आयी

अब रूकना चाहूं सागर की लहरों में ।

पथरीली राहों में राह बनाकर मीलों तय किये इस उम्मीद से

पनाह मिलें मुझे सागर की लहरों में ।

तपती धरती की प्यास बुझाकर,

आ गई. शायद प्यास बुझ जाए मेरी  सागर की लहरों में ।

हूं मैं  नदियां की बहती धारा

किनारा चाहूं मैं सागर की लहरों में ।

Time : 2021-04-14 13:09:41

heart touching shayari

** इंतजार **



एक अजनबी का है इंतजार 

कर सके जिस पर खुद से ज्यादा एतबार

जिसकी आँखों से देख सके जहाँ सारा

बीते हर लम्हा साथ उसके 

गमो की शाम और खुशियों का सवेरा 

कभी प्यार भरी बाते हो कभी हो मीठी तकरार

एक ऐसे अजनबी का है इंतजार

आने से जिसके झूम उठे जीवन में बहार

खयालो में खो जाये एक दूजे के 

दोनों के दरमिया हो बस प्यार

उससे मेरा और मुझको उसका 

पूरा हो जाए अधूरा संसार 

बस एक ऐसा अजनबी का है इंतजार

Time : 2021-04-14 13:07:28

heart touching shayari

गम़ मेरे हैं तो आँसू भी मेरे ही बहने दो

थोड़ी देर तन्हाई के आगोश में रहने दो

दिल-ओ-दिमाग में जंग छिड़ी है अभी

वक्त़ देते हैं,एक दूसरे को समझने दो

Time : 2021-04-14 13:02:00

heart touching shayari

"" बचपन के सपने""


खेल खिलौनों से खेलते,

मासूमियत. की मिट्टी में लिपटे,

धमा-चौकड़ी  के धूल में सने,

कुछ छोटे कुछ बडे़,

वो बचपन. के सपने।

एक उम्मीद के बक्से में जिन्हें संजोये,

सोच के ये कि जब होंगे हम सयाने,

खोल बक्से से,

धूल जमें सपने को निकालें,

झाड़-पोंछ कर,नया रूप देकर

फिर से उन्हें जियें,

मगर जिन्दगी की रेल,

भागे अपनी रफ्तार लिये।

सबसे आगे निकलने  की दौड़ में,

सब कुछ पा लेने की होड़ में,

जाने कहाँ, , छूटा वो सपनों  का बक्सा,

जिसमें  था बचपन सारा सिमटा।

बडे़ हो गये हम इतने ...

कि अब तो याद भी न रहें, ,

वो बचपन के सपनें।।

Time : 2021-04-14 12:59:46

heart touching shayari

** एक कविता कहो ऐसी प्रिय  **


----------------------------


एक कविता कहो ऐसी प्रिय.

आखर आखर बिंध प्रीत लिए

प्रत्येक पंक्ति प्रेम रस पिरोये

बावरा मन सुध बुध खोये

एक कविता कहो ऐसी प्रिय

कुछ ऐसे कहना कि

जाग उठे बूंद बूंद माधुर्य

रोम रोम पुलकित हो जाये

प्रमुदित प्रफुल्लित हो हृदय

एक कविता कहो ऐसी प्रिय

पल ये सुरमई हो जाये

और हौले से यौवन मुस्काए

उपजे मन में भाव दाम्पत्य

तुम्हे देख गुनगुनाऊ गीत प्रणय

एक कविता कहो ऐसी प्रिय  

Time : 2021-04-14 12:58:05

heart touching shayari

अब एक एक लफ़्ज समझाने लगे गर तुम्हें, तो सदियां बीत जाएंगी !

आंखें पढ़ लो एक बार , बात सारी आईने की तरह साफ नजर आएगी !!

Time : 2021-03-23 08:41:07

heart touching shayari

अक्सर ही ऐसा होता है जब नाम तेरा जुबां पर आता है तो, धडकनें मेरी थम जाती हैं....

कैसी कशिश है, तुझमें सनम जो देेख कर ही तुझे मेरी हर तकलीफ़ कम हो जाती है।।

Time : 2021-03-23 08:40:26

heart touching shayari

किससे जबाब तलब करते

सवाल भी मैं जबाब भी मैं ॥

Time : 2021-03-23 08:39:45

heart touching shayari

मैनें मुस्कुराहट का लिबास ओढा है जब से

आंखों ने आंसू बहाना तो छोड दिया

मगर दिल नादान इतना कि रोता है अब भी 

और बेपरवाहों से रस्ता अपना मोड़ लिया

Time : 2021-03-23 08:39:13

heart touching shayari

मेरा शहर  सुबह के ताजे अखबार सा हैमेरा शहर सुबह के ताजे अखबार सा है  

ना देखेँ जब तक पन्नोँ को इसके पलट कर

लगे दिन सारा बेकार सा है 

क्योकिँ ये पन्नोँ मेँ बसे संसार सा है

मेरा शहर सुबह के  ताजे अखबार सा है

तलब लगे सबसे पहले जिसकी

एक प्याली चाय की चुस्की जो नीँद से जगाती

भोर की पहली चाय के इंतजार सा है

मेरा शहर सुबह के ताजे अखबार सा है

सूरज की लाली से रंग चुनेँ

चिङियोँ की चहक से शब्द बुनेँ  

बदलाव की बयार सा है

प्रेम और सौहाद्र के  पुकार सा है 

मेरा शहर सुबह के  ताजे अखबार सा है

असर करेँ खबर वजूद इसका असरदार सा है

मेरा शहर सच्चे दिलदार सा है 

Time : 2021-03-23 08:38:31

heart touching shayari

Ek pal k liye laga ki sb kuch  kho diya Maine...

Itna khalipan kabhi mahsus nhi kiya Maine...

Tere aashuyo ki kasam ...h Mjhe

kbhi khudh KO Jo bina tere mahsus kiya Maine...

Kbhi tere dil ki dharkano PR mere sargam gujte..

Khud hi sb tabaah kr liya Maine....

Gharonda ek chota sa bnane ki chaht to apni bhi h...

KB is khawab KO mitti me mila diya Maine.....

Uajar si kr di jindgi Teri .. Viraniya bhar Di ... Khushiyo ki jagh ye kaisa manjar bna diya Maine....

Ho ske to maaf kr Dena ...

Teri kasti KO ubara to nhi.. dubaya kiya Maine...

Time : 2021-03-23 08:37:48

heart touching shayari

जब जब तू दिखाता है सपने

मैं देखती जाती हूं

तेरे दिखाये सपनों में जैसे कहीं गुम सी हो जाती हूं

एक-एक लम्हा बीते जैसे संग सपनों के

मैं पोर-पोर उनमें इसी तरह घुलती जाती हूं

रग - रग में खूं के जैसे तू और तेरे दिखाये सपने

एक-एक मोती पिरो माला बनाती जाती हूं

फिर एक दिन न जाने क्या कैसे और क्यों होता है

बेरहम की तरह तू खुद दिखाये सपनों को रौंदता है

और मैं कभी न सिमटने के लिए बिखरती जाती हूं॥

Time : 2021-03-23 08:37:16

heart touching shayari

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

तेरी हर एक अदा को लफ्ज बना

शब्दों में अपने पिरोना चाहता हूं

तेरी आंखों में समन्दर जो अथाह

तेरी जुल्फों में बदरा जैसे स्याह

नर्म होंठ जैसे पंखुडी गुलाब

चेहरा जैसे रौशन आफताब

दिलकश तेरे जलवों को 

अपने तरीके से गढ़ना चाहता हूं

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

संगमरमरी बदन को तराशा खुदा ने

कोई कसर न छोडी कलाकारी लुटाने में

गढा हो चाहे जिस भी सांचे में तेरी सूरत को

लगती हो मगर खूबसूरत इबादत की मूरत हो

खुदा से पहले तेरी इबादत करना चाहता हूं

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

Time : 2021-03-23 08:36:21

heart touching shayari

खूं-ए-जिगर से पूछ लो गर न हो एतबार कतरा कतरा तेरी दिवानगी की गवाही देगा

Time : 2021-03-23 15:01:32

heart touching shayari

अक्सर ही ऐसा होता है जब नाम तेरा जुबां पर आता है तो, धडकनें मेरी थम जाती हैं

कैसी कशिश है, तुझमें सनम जो देेख कर ही तुझे मेरी हर तकलीफ़ कम हो जाती है।।

Time : 2021-03-23 15:02:08

heart touching shayari

पूछे कोई मुझसे कि जिन्दगी क्या से क्या हो गई है 

सूखे पत्तों सी मैं और दुनिया हवा हो गई है।

Time : 2021-03-23 08:29:11

heart touching shayari

Kya kahu yrrrr tera andaaz sbse juda hai

Tere ikraar-e-mohbaat ki alag hi ada hai

Badi khushnaseeb h vo mohtarma Jis par

Yarr mera dil-o-jaan se fida hai

Time : 2021-03-23 15:02:36

heart touching shayari

हर्फ़- हर्फ़ तुझमें घुलने की ख्वाहिश है

मेरी रूह को बस इतनी सी इजाजत दे दो

Time : 2021-03-23 08:26:16

heart touching shayari

मेरा इमां तुम , मेरा अरमां भी तुम

मेरा ख्बाब हो , मेरा जहाँ हो तुम

तुम से मेरी जिन्दगी की खुशियाँ

जिधर भी नजर करूं वहाँ हो तुम

Time : 2021-03-23 08:18:11

heart touching shayari

तेरी यादों के बारिश में भीगी जमीं हूँ

कभी पूरी न हो सकूं मैं वो कमी हूँ

Time : 2021-03-23 08:16:59

heart touching shayari

आजादी की मशाल जो शहीद लहू से अपने जला गये।

याद आते ही उनकी कुर्बानियां आंखों में आंसू आ गये।

करते हैं वंदन और नमन भारत के उन वीर सपूतों को,

जो शीश अपना मातृभूमि के चरणों में भेंट चढ़ा गये।।

Time : 2021-03-23 08:05:36

heart touching shayari

जागती आंखों का ख्बा़ब तुम हो महकते गुलशन का गुलाब तुम हो

जाहिर नहीं कर सकते लफ्जों में जिन्दगी की पूरी किताब तुम हो।।।

नीतू©

Time : 2021-03-15 18:51:13

heart touching shayari in hindi

मेरा शहर  सुबह के ताजे अखबार सा हैमेरा शहर सुबह के ताजे अखबार सा है  

ना देखेँ जब तक पन्नोँ को इसके पलट कर

लगे दिन सारा बेकार सा है 

क्योकिँ ये पन्नोँ मेँ बसे संसार सा है

मेरा शहर सुबह के  ताजे अखबार सा है

तलब लगे सबसे पहले जिसकी

एक प्याली चाय की चुस्की जो नीँद से जगाती

भोर की पहली चाय के इंतजार सा है

मेरा शहर सुबह के ताजे अखबार सा है

सूरज की लाली से रंग चुनेँ

चिङियोँ की चहक से शब्द बुनेँ  

बदलाव की बयार सा है

प्रेम और सौहाद्र के  पुकार सा है 

मेरा शहर सुबह के  ताजे अखबार सा है

असर करेँ खबर वजूद इसका असरदार सा है

मेरा शहर सच्चे दिलदार सा है 

Time : 2021-03-23 08:38:31

heart touching shayari in hindi

Ek pal k liye laga ki sb kuch  kho diya Maine...

Itna khalipan kabhi mahsus nhi kiya Maine...

Tere aashuyo ki kasam ...h Mjhe

kbhi khudh KO Jo bina tere mahsus kiya Maine...

Kbhi tere dil ki dharkano PR mere sargam gujte..

Khud hi sb tabaah kr liya Maine....

Gharonda ek chota sa bnane ki chaht to apni bhi h...

KB is khawab KO mitti me mila diya Maine.....

Uajar si kr di jindgi Teri .. Viraniya bhar Di ... Khushiyo ki jagh ye kaisa manjar bna diya Maine....

Ho ske to maaf kr Dena ...

Teri kasti KO ubara to nhi.. dubaya kiya Maine...

Time : 2021-03-23 08:37:48

heart touching shayari in hindi

जब जब तू दिखाता है सपने

मैं देखती जाती हूं

तेरे दिखाये सपनों में जैसे कहीं गुम सी हो जाती हूं

एक-एक लम्हा बीते जैसे संग सपनों के

मैं पोर-पोर उनमें इसी तरह घुलती जाती हूं

रग - रग में खूं के जैसे तू और तेरे दिखाये सपने

एक-एक मोती पिरो माला बनाती जाती हूं

फिर एक दिन न जाने क्या कैसे और क्यों होता है

बेरहम की तरह तू खुद दिखाये सपनों को रौंदता है

और मैं कभी न सिमटने के लिए बिखरती जाती हूं॥

Time : 2021-03-23 08:37:16

heart touching shayari in hindi

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

तेरी हर एक अदा को लफ्ज बना

शब्दों में अपने पिरोना चाहता हूं

तेरी आंखों में समन्दर जो अथाह

तेरी जुल्फों में बदरा जैसे स्याह

नर्म होंठ जैसे पंखुडी गुलाब

चेहरा जैसे रौशन आफताब

दिलकश तेरे जलवों को 

अपने तरीके से गढ़ना चाहता हूं

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

संगमरमरी बदन को तराशा खुदा ने

कोई कसर न छोडी कलाकारी लुटाने में

गढा हो चाहे जिस भी सांचे में तेरी सूरत को

लगती हो मगर खूबसूरत इबादत की मूरत हो

खुदा से पहले तेरी इबादत करना चाहता हूं

मैं एक गजल कहना चाहता हूं

Time : 2021-03-23 08:36:21

two line hindi shayari

हवा का प्यारा सा झोंका जब छू जाए तेरे गालों को

समझ जाना तब आधार मिल‌ गया है मेरे अधरों‌ को.....


Time : 2021-04-14 13:18:59

two line hindi shayari

गम़ मेरे हैं तो आँसू भी मेरे ही बहने दो

थोड़ी देर तन्हाई के आगोश में रहने दो

दिल-ओ-दिमाग में जंग छिड़ी है अभी

वक्त़ देते हैं,एक दूसरे को समझने दो

Time : 2021-04-14 13:02:00

two line hindi shayari

अब एक एक लफ़्ज समझाने लगे गर तुम्हें, तो सदियां बीत जाएंगी !

आंखें पढ़ लो एक बार , बात सारी आईने की तरह साफ नजर आएगी !!

Time : 2021-03-23 08:41:07

two line hindi shayari

अक्सर ही ऐसा होता है जब नाम तेरा जुबां पर आता है तो, धडकनें मेरी थम जाती हैं....

कैसी कशिश है, तुझमें सनम जो देेख कर ही तुझे मेरी हर तकलीफ़ कम हो जाती है।।

Time : 2021-03-23 08:40:26

two line hindi shayari

किससे जबाब तलब करते

सवाल भी मैं जबाब भी मैं ॥

Time : 2021-03-23 08:39:45

two line hindi shayari

मैनें मुस्कुराहट का लिबास ओढा है जब से

आंखों ने आंसू बहाना तो छोड दिया

मगर दिल नादान इतना कि रोता है अब भी 

और बेपरवाहों से रस्ता अपना मोड़ लिया

Time : 2021-03-23 08:39:13

two line hindi shayari

खूं-ए-जिगर से पूछ लो गर न हो एतबार कतरा कतरा तेरी दिवानगी की गवाही देगा

Time : 2021-03-23 15:01:32

two line hindi shayari

अक्सर ही ऐसा होता है जब नाम तेरा जुबां पर आता है तो, धडकनें मेरी थम जाती हैं

कैसी कशिश है, तुझमें सनम जो देेख कर ही तुझे मेरी हर तकलीफ़ कम हो जाती है।।

Time : 2021-03-23 15:02:08

two line hindi shayari

पूछे कोई मुझसे कि जिन्दगी क्या से क्या हो गई है 

सूखे पत्तों सी मैं और दुनिया हवा हो गई है।

Time : 2021-03-23 08:29:11

two line hindi shayari

Kya kahu yrrrr tera andaaz sbse juda hai

Tere ikraar-e-mohbaat ki alag hi ada hai

Badi khushnaseeb h vo mohtarma Jis par

Yarr mera dil-o-jaan se fida hai

Time : 2021-03-23 15:02:36

two line hindi shayari

हर्फ़- हर्फ़ तुझमें घुलने की ख्वाहिश है

मेरी रूह को बस इतनी सी इजाजत दे दो

Time : 2021-03-23 08:26:16

two line hindi shayari

तेरी यादों के बारिश में भीगी जमीं हूँ

कभी पूरी न हो सकूं मैं वो कमी हूँ

Time : 2021-03-23 08:16:59

two line hindi shayari

आजादी की मशाल जो शहीद लहू से अपने जला गये।

याद आते ही उनकी कुर्बानियां आंखों में आंसू आ गये।

करते हैं वंदन और नमन भारत के उन वीर सपूतों को,

जो शीश अपना मातृभूमि के चरणों में भेंट चढ़ा गये।।

Time : 2021-03-23 08:05:36

two line hindi shayari

जागती आंखों का ख्बा़ब तुम हो महकते गुलशन का गुलाब तुम हो

जाहिर नहीं कर सकते लफ्जों में जिन्दगी की पूरी किताब तुम हो।।।

नीतू©

Time : 2021-03-15 18:51:13

two line shayari

     कलमकार हूं


कलमकार हूं 

कलम चलाता हूं

कभी अपना तो कभी

दूसरों का हाल बताता हूं।


जरूरी नहीं हर बार 

हो मेरा ही समाचार

कभी-कभी जीवन 

की राह खंगाल आता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


स्वपनों को छाप दूं 

क्या जरूरी है

कभी सच्चाई को‌ 

जो छुपी है

उजालें में उभार आता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


रोटी को तरसते 

भूखे नंगे बच्चे जो बिलखते

और आप भोजन में थाली में छोड़ते 

ऐसे मसले को‌ भी समाज को‌ 

दिखलाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


बेटी मार दी जाती  

कभी बेटे की चाह में

मां बाप बूढ़े हो जाते 

बेटों से मिलने की आह में

उनके भाव को‌ शब्दों में

बिखराता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


जल बिन धरती सूखी

आकाश का सूनापन

भेंट चढ रही प्रकृति स्वार्थ की

न बचाया तो पछताएंगे

ये आवाज जन -जन तक

पहुंचाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं।


वक्त की मार पड़े 

दर्द आ द्वार खड़े 

पहले ही कभी

सबको सीख दे 

आगाह भविष्य से करवाता हूं

क्योंकि कलमकार हूं

कलम चलाता हूं

Time : 2021-04-15 16:17:06

two line shayari

    क्योंकि वो मर्द है...

   ----------------------------

नहीं पंसद उसे कि कोई उसके अहम से टकराये

उसको नहीं भाता कोई उसके सामने टिक पाए।

क्योंकि उसको बोलती औरत चरित्रहीन लगती है

उसका वर्चस्व नष्ट होता है जब वो खामोशी तोड़ती है।

यदि औरत घरों से बाहर निकल जाए

लगता है उसे प्रतिष्ठा पर आंच न आ जाए।

उसके ठहाके लगाके हंसने से मर्यादा भंग होती है

मगर मूंछे तन जाती है जब औरत घूंघट में संग होती है।

यहां तक कि औरत के नाम में भी  उसका नाम जोड़ा जाना चाहिए

उसकी ही पहचान, औरत की  पहचान होनी चाहिए।

वो खुद को ही औरत का खुदा समझ बैठता है

अपनी मर्जी के बिना एक कदम नहीं चलने देता है।

क्योंकि वो मर्द है ।।

Time : 2021-04-14 13:14:36

two line shayari

** दिल का मेहमां...**

कभी भुला न सको हमें, ,,

दिल में तेरे, ऐसा मकाम बना लेंगे ।

मेरी आंखों का नूर तुम हो,,,

चेहरे को तेरे, हम अपना ख्वाब. बना लेंगे ।

महसूस करोगे तुम,हर दम पास अपने,,,

तुम्हें सांसों का हकदार बना लेंगे ।

धड़कनों में नाम तेरा गूंजें,

तुझे दिल का मेहमां बना लेंगे ।

कभी भुला न सको हमें, ,,

दिल में तेरे, ऐसा मकान बना लेंगे ।

लबों पर तेरे, मेरे नगमे खिलेंगे,,,

तुझे हम मुहब्बत -ए-बहार बना लेंगे ।

इजाजत दे तू अगर,, तुझको

हम अपना हमसफर बना लेंगे ।

मेरी नजरों से दौर-ए-मुहब्बत देखो,,,,

खुद को लुटा के भी ,तुम्हें अपना बना लेंगे ।

कभी भुला न सको हमें, ,

दिल में तेरे,ऐसा मकाम बना लेंगे ।⁠⁠


Time : 2021-04-14 13:12:12

two line shayari

** सागर की लहरों में .... **


हूं मैं नदियां की बहती धारा

मिलना चाहूं सागर की लहरों में ।

तन्हा ही पहाड़ों से मैदानों तक बहती रही निरन्तर

खोना चाहूं अब सागर की लहरों में ।

बहते-बहते थकी हूं बहुत

आराम चांहू मैं सागर की लहरों में ।

बहुत दूर से चली बहुत दूर तक आयी

अब रूकना चाहूं सागर की लहरों में ।

पथरीली राहों में राह बनाकर मीलों तय किये इस उम्मीद से

पनाह मिलें मुझे सागर की लहरों में ।

तपती धरती की प्यास बुझाकर,

आ गई. शायद प्यास बुझ जाए मेरी  सागर की लहरों में ।

हूं मैं  नदियां की बहती धारा

किनारा चाहूं मैं सागर की लहरों में ।

Time : 2021-04-14 13:09:41

two line shayari

** इंतजार **



एक अजनबी का है इंतजार 

कर सके जिस पर खुद से ज्यादा एतबार

जिसकी आँखों से देख सके जहाँ सारा

बीते हर लम्हा साथ उसके 

गमो की शाम और खुशियों का सवेरा 

कभी प्यार भरी बाते हो कभी हो मीठी तकरार

एक ऐसे अजनबी का है इंतजार

आने से जिसके झूम उठे जीवन में बहार

खयालो में खो जाये एक दूजे के 

दोनों के दरमिया हो बस प्यार

उससे मेरा और मुझको उसका 

पूरा हो जाए अधूरा संसार 

बस एक ऐसा अजनबी का है इंतजार

Time : 2021-04-14 13:07:28

two line shayari

"" बचपन के सपने""


खेल खिलौनों से खेलते,

मासूमियत. की मिट्टी में लिपटे,

धमा-चौकड़ी  के धूल में सने,

कुछ छोटे कुछ बडे़,

वो बचपन. के सपने।

एक उम्मीद के बक्से में जिन्हें संजोये,

सोच के ये कि जब होंगे हम सयाने,

खोल बक्से से,

धूल जमें सपने को निकालें,

झाड़-पोंछ कर,नया रूप देकर

फिर से उन्हें जियें,

मगर जिन्दगी की रेल,

भागे अपनी रफ्तार लिये।

सबसे आगे निकलने  की दौड़ में,

सब कुछ पा लेने की होड़ में,

जाने कहाँ, , छूटा वो सपनों  का बक्सा,

जिसमें  था बचपन सारा सिमटा।

बडे़ हो गये हम इतने ...

कि अब तो याद भी न रहें, ,

वो बचपन के सपनें।।

Time : 2021-04-14 12:59:46

two line shayari

** एक कविता कहो ऐसी प्रिय  **


----------------------------


एक कविता कहो ऐसी प्रिय.

आखर आखर बिंध प्रीत लिए

प्रत्येक पंक्ति प्रेम रस पिरोये

बावरा मन सुध बुध खोये

एक कविता कहो ऐसी प्रिय

कुछ ऐसे कहना कि

जाग उठे बूंद बूंद माधुर्य

रोम रोम पुलकित हो जाये

प्रमुदित प्रफुल्लित हो हृदय

एक कविता कहो ऐसी प्रिय

पल ये सुरमई हो जाये

और हौले से यौवन मुस्काए

उपजे मन में भाव दाम्पत्य

तुम्हे देख गुनगुनाऊ गीत प्रणय

एक कविता कहो ऐसी प्रिय  

Time : 2021-04-14 12:58:05

Profile

"मेरे अल्फ़ाज"। शायर नहीं मैं, नहीं कोई कवियत्री, बस दिल की आवाज को मेरे अल्फ़ाज बयां करते।"